Warning: touch(): Unable to create file /tmp/custom9675.tmp because Disk quota exceeded in /home/customer/www/voiceofjains.in/public_html/wp-admin/includes/file.php on line 164

Warning: fopen(/tmp/custom9675.tmp): failed to open stream: Disk quota exceeded in /home/customer/www/voiceofjains.in/public_html/wp-admin/includes/class-wp-filesystem-ftpext.php on line 99
विचारों को अपने जीवन में परिवर्तन करना | Voice Of Jains | Page 77

विचारों को अपने जीवन में परिवर्तन करना

Archivers

प्रेक्टिस मेक मेन परफेक्ट

आज के मानव को सफलता चाहिये वो भी बिना मेहनत के  या तो कम मेहनत फटाफट सफलता का स्वाद चखना चाहता है और उसके लिए तल पापड हो जाता है । परंतु याद रखना परिक्षा हो या जीवन सफलता कभी भी त्वरित नही मिलती है । सफलता प्राप्त करने के लिए  प्रेक्टिस की आवश्यकता होती है । तन तोड़ परिश्रम…

Read More
जहाँ अर्पण है जहाँ समर्पण है जहाँ सब आलोचना का तर्पण है वही दाम्पत्य है

आज हम 21 वी सदी मे जीवन यापन कर रहे है । हमारी अपेक्षाए निरन्तर बढ रही है । हम हमारी संस्कृति से विमुख हो गये है । हम धर्म को तो भूल ही रहे होंगे परन्तु हमारी संस्कृति ने जो संबंध हमे दिये है जिस पर हमारे जीवन का आधार है जिस पर कई सुंदर कल्पना की सृष्टि हम…

Read More
मानव की सेवा वो भगवान की सेवा है

सेवा मानव का धर्म है। सेवा मानव का सच्चा कर्म है। सेवा मानव का दयालु मन है। सेवा मानव का मनन है। सेवा दुसरो के लिए घिसाने वाला तन है। सेवा संस्कार है। सेवा पिडीत मानव की पुकार है। सेवा निराधार की आधार है। सेवा अहं का आकार है। सेवा होती है वहा प्रेम का बरसात अनराधार है। और सेवा…

Read More

Archivers