Story Of The Day

Archivers

गौतम स्वामी जी का तिसरा भव

दूसरा भव : विशाल नदी में मछली के रूप में उत्पति   कर्म की गति सच में विचित्र होती हे।थोडासा उत्कर्ष हुआ न हुआ वही  पतन करा देती हे।हा एकाद छोटा सा निमित उसे मिलना चाहिये ।पाप भीरु बनकर तूने अनशन किया परंतु यह अनशन के दोरान तू दू:खभीरु बन गया।उसके सिवाय ऐसा क्यों बने? कहा मंगलसेठ का जन्म तथा…

Read More
एक दिन अचानक मेरी पत्नी मुझसे बोली

एक दिन अचानक मेरी पत्नी मुझसे बोली – “सुनो, अगर मैं तुम्हे किसी और के साथ डिनर और फ़िल्म के लिए बाहर जाने को कहूँ तो तुम क्या कहोगे”। मैं बोला – ” मैं कहूँगा कि अब तुम मुझे प्यार नहीं करती”। उसने कहा – “मैं तुमसे प्यार करती हूँ, लेकिन मुझे पता है कि यह औरत भी आपसे बहुत…

Read More
घमंडी का सिर नीचा

नारियल के पेड़ बड़े ही ऊँचे होते हैं और देखने में बहुत सुंदर होते हैं। एक बार एक नदी के किनारे नारियल का पेड़ लगा हुआ था। उस पर लगे नारियल को अपने पेड़ के सुंदर होने पर बहुत गर्व था। सबसे ऊँचाई पर बैठने का भी उसे बहुत मान था।. इस कारण घमंड में चूर नारियल हमेशा ही नदी…

Read More
एक दिन मोर ने मोरनी से प्रस्ताव रखा

एक बहुत बड़ा सरोवर था। उसके तट पर मोर रहता था, और वहीं पास एक मोरनी भी रहती थी। एक दिन मोर ने मोरनी से प्रस्ताव रखा कि- “हम तुम विवाह कर लें, तो कैसा अच्छा रहे?”   मोरनी ने पूछा- “तुम्हारे मित्र कितने है? ” मोर ने कहा उसका कोई मित्र नहीं है। तो मोरनी ने विवाह से इनकार…

Read More
आज श्राद्ध का दिन है

एक बार रामानंद जी ने कबीर जी से कहा की हे कबीर आज श्राद्ध का दिन है और पितरो के लिये खीर बनानी है. आप जाइये पितरो की खीर के लिये दुध ले आइये.. कबीर जी उस समय 9 वर्ष के ही थे.. कबीर जी दुध का बरतन लेकर चल पडे… चलते चलते आगे एक गाय मरी हुई पडी थी..…

Read More
प्राचीन समय की बात हैं

प्राचीन  समय  की  बात  हैं एक लकड़हारा रात-दिन लकड़ियां काटता, मगर कठोर परिश्रम के बावजूद उसे आधा पेट भोजन ही मिल पाता था। एक दिन उसकी मुलाकात एक साधु से हुई। लकड़हारे ने साधु से कहा कि जब भी आपकी प्रभु से मुलाकात हो जाए, मेरी एक फरियाद उनके सामने रखना और मेरे कष्ट का कारण पूछना।कुछ दिनों बाद उसे…

Read More
कृष्ण और सुदामा

कृष्ण और सुदामा का प्रेम बहुत गहरा था। प्रेम भी इतना कि कृष्ण, सुदामा को रात दिन अपने साथ ही रखते थे। कोई भी काम होता, दोनों साथ-साथ ही करते।   एक दिन दोनों वन संचार के लिए गए और रास्ता भटक गए। भूखे-प्यासे एक पेड़ के नीचे पहुंचे। पेड़ पर एक ही फल लगा था।   कृष्ण ने घोड़े…

Read More
कल रात मैंने एक “सपना” देखा

कल रात मैंने एक “सपना”  देखा.! मेरी Death हो गई….   जीवन में कुछ अच्छे कर्म किये होंगे इसलिये यमराज मुझे स्वर्ग में ले गये…   देवराज इंद्र ने मुस्कुराकर मेरा स्वागत किया…   मेरे हाथ में Bag देखकर पूछने लगे   ”इसमें क्या है..?”     मैंने कहा… ” इसमें मेरे जीवन भर की कमाई है, पांच करोड़ रूपये…

Read More
उपदेशों को जीवन में उतारे बगैर उनका कोई मोल

*उपदेशों को जीवन में उतारे बगैर उनका कोई मोल नहीं।*     *राजा के विशाल महल में एक सुंदर वाटिका थी, जिसमें अंगूरों की एक बेल लगी थी। वहां रोज एक चिड़िया आती और मीठे अंगूर चुन-चुनकर खा जाती मगर अधपके और खट्टे अंगूरों को नीचे गिरा देती। माली ने चिड़िया को पकड़ने की बहुत कोशिश की पर वह हाथ…

Read More
मांस का मूल्य

मगध सम्राट बिंन्दुसार ने एक बार अपनी सभा मे पूछा : देश की खाद्य समस्या को सुलझाने के लिए   *सबसे सस्ती वस्तु क्या है ?*   मंत्री परिषद् तथा अन्य सदस्य सोच में पड़ गये ! चावल, गेहूं, ज्वार, बाजरा आदि तो बहुत श्रम के बाद मिलते हैं और वह भी तब, जब प्रकृति का प्रकोप न हो, ऎसी…

Read More

Archivers