Warning: "continue" targeting switch is equivalent to "break". Did you mean to use "continue 2"? in /home/customer/www/voiceofjains.in/public_html/wp-content/plugins/qtranslate-x/qtranslate_frontend.php on line 507

Warning: touch(): Unable to create file /tmp/custom9445.tmp because Disk quota exceeded in /home/customer/www/voiceofjains.in/public_html/wp-admin/includes/file.php on line 164

Warning: fopen(/tmp/custom9445.tmp): failed to open stream: Disk quota exceeded in /home/customer/www/voiceofjains.in/public_html/wp-admin/includes/class-wp-filesystem-ftpext.php on line 99
शोध – प्रतिशोध पाठ 2 – भाग 1 to 9 | Categories | Voice Of Jains

Archivers

राजा से शिकायत। – भाग 9

‘एक ब्राह्मण आग्रणी ने कहा : ‘हम भी पुरोहित परिवार की रक्षा के लिए कटिबद्ध हैं । जवानों को सावध कर दिये हैं । पुरोहित के घर के आगे सौ-सौ शास्त्रसज्ज युवान चौकन्ने होकर बैठे रहेंगे । खुद कुमार आये या उसके दोस्त आये…. किसी को पुरोहित के घर में प्रविष्ट नहीं होने दिया जाएगा। यदि मौका आया तो लड़ने…

Read More
राजा से शिकायत। – भाग 8

पांचसौ ब्राह्मण जवानों के सपक्ष तू अकेला क्या कर सकेगा? किसी भी कीमत पर वे लोग तुझे अग्निशर्मा के पास नहीं जाने देंगे । क्या तू हाथपाई करेगा ? मारपीट करेगा ? उन पाँचसौ से तू अकेला निपट लेगा ?’ कुष्णकांत ने साफ साफ शब्दों में कहा : ‘तब फिर क्या करेंगे ?’ ‘कुछ दिन यूं ही बीतने दें ।’…

Read More
राजा से शिकायत। – भाग 7

शत्रुध्न बोला : ‘नगर में सर्वत्र अपनी ही चर्चा हो रही है। मुझे भी मेरे पिताजी ने इस बारे में पूछा था ।’ ‘तूने क्या जवाब दिया ?’ कुमार ने पूछा । मैंने कहा कि बात सही है , परंतु हम तो महाराजकुमार जैसा कहेंगे वैसा करेंगे ।’ ‘तुम तीनों मेरे परम विश्वस्त मित्र हो ।’ जहरीमल ने कुमार से…

Read More
राजा से शिकायत। – भाग 6

‘पर मैं उस ब्राह्मण के बच्चे को छोड़नेवाला नहीं । उसके साथ खेलने में… क्रीड़ा करने में मुझे बड़ा मजा आता है । रोजाना हम नई-नई तरकीबें लड़ाकर खेलते हैं । अरे मां । तू खुद भी यदि उस विदूषक को देखेगी तो तू भी पेट पकड़कर हंसती ही रहेगी ।’ ‘तुम खेला करना। मैं तेरे पिताजी को समझा दूंगी…

Read More
राजा से शिकायत। – भाग 5

‘कुमार… अभी तू महाजन की शक्त्ति से परिचित नहीं है । इसलिए ऐसे कटु और अयोग्य वचन बोल रहा है । महाजन चाहे तो राजा को राज्यसिंहासन पर से नीचे उतार सकता है । राजा को देश निकाल की सजा दे सकता है… ऐसे महाजन का तू क्या कर लेगा ? क्या औकात है तेरी ?’ ‘बेटा, महाजन के विरुद्ध…

Read More

Warning: Use of undefined constant custom_pagination - assumed 'custom_pagination' (this will throw an Error in a future version of PHP) in /home/customer/www/voiceofjains.in/public_html/wp-content/themes/voiceofjains/taxonomy-jain_katha_category.php on line 143

Archivers