Archivers

Parshwanath God Part 5

_*श्री पार्श्वनाथ भगवान के 2894 वें जन्म दिवस के पावन अवसर पर विशेष प्रस्तुति…*_ *【 पोष वदी १०, दिनाँक : 23.12.2016 】* *केवलज्ञान और मोक्ष* तदनंतर ध्यान के प्रभाव से प्रभु का मोहनीय कर्म क्षीण हो गया इसलिए बैरी कमठ का सब उपसर्ग दूर हो गया। मुनिराज पाश्र्वनाथ ने चैत्र कृष्णा चतुर्थी के दिन प्रात:काल के समय विशाखा नक्षत्र में…

Read More
Parshwanath God Part 4

_*श्री पार्श्वनाथ भगवान के 2894 वें जन्म दिवस के पावन अवसर पर विशेष प्रस्तुति…*_ *【 पोष वदी १०, दिनाँक : 23.12.2016 】* _*तप*_ सोलह वर्ष बाद नवयौवन से युक्त भगवान किसी समय क्रीडा के लिये अपनी सेना के साथ नगर के बाहर गये। कमठ का जीव, जो कि सिंहपर्याय से नरक गया था, वह वहाँ से आकर महीपाल नगर का…

Read More
Parshwanath God Part 3

_*श्री पार्श्वनाथ भगवान के 2894 वें जन्म दिवस के पावन अवसर पर विशेष प्रस्तुति…*_ *【 पोष वदी १०, दिनाँक : 23.12.2016 】* *गर्भ और जन्म -* गर्भावतार-इस जंबूद्वीप के भरतक्षेत्रसम्बन्धी काशी देश में बनारस नाम का एक नगर है। उसमें काश्यपगोत्री राजा विश्वसेन राज्य करते थे। उनकी रानी का नाम ब्राह्मी था। जब उन सोलहवें स्वर्ग के इन्द्र की आयु…

Read More
Parshwanath God Part 2

_*श्री पार्श्वनाथ भगवान के 2894 वें जन्म दिवस के पावन अवसर पर विशेष प्रस्तुति…*_ *【 पोष वदी १०, दिनाँक : 23.12.2016 】* जंबूद्वीप के पूर्व विदेहक्षेत्र में पुष्कलावती देश है उसके विजयार्ध पर्वत पर त्रिलोकोत्तम नगर में राजा विद्युत्गति राज्य करते थे। वह देव का जीव वहाँ से च्युत होकर राजा की विद्युन्माला रानी से रश्मिवेग नाम का पुत्र हो…

Read More
Parshwanath God Part 1

_*श्री पार्श्वनाथ भगवान के 2894 वें जन्म दिवस के पावन अवसर पर विशेष प्रस्तुति…*_ *【 पोष वदी १०, दिनाँक : 23.12.2016 】* *श्री पार्श्वनाथ भगवान् का इतिहास* _*च्यवन  :  चैत्र वदी  ४*_ _*जन्म  :  पोष वदी  १०  वाराणसी*_ _*दीक्षा  :  पोष वदी  ११ काशीनगरी*_ _*केवलज्ञान  :  चैत्र वदी ४ काशीनगरी*”_ _*निर्वाण  :  श्रावण सुदी ८ श्री सम्मेदशिखरजी, माक्ष क्षमण तप…

Read More

Warning: Use of undefined constant custom_pagination - assumed 'custom_pagination' (this will throw an Error in a future version of PHP) in /home/customer/www/voiceofjains.in/public_html/wp-content/themes/voiceofjains/taxonomy-jain_katha_category.php on line 143

Archivers