Warning: "continue" targeting switch is equivalent to "break". Did you mean to use "continue 2"? in /home/customer/www/voiceofjains.in/public_html/wp-content/plugins/qtranslate-x/qtranslate_frontend.php on line 507

Warning: touch(): Unable to create file /tmp/custom9445.tmp because Disk quota exceeded in /home/customer/www/voiceofjains.in/public_html/wp-admin/includes/file.php on line 164

Warning: fopen(/tmp/custom9445.tmp): failed to open stream: Disk quota exceeded in /home/customer/www/voiceofjains.in/public_html/wp-admin/includes/class-wp-filesystem-ftpext.php on line 99
Ideas To Change Your Life | Voice Of Jains

Ideas To Change Your Life

Archivers

जीवन की सफलता और सार्थकता के लिए उत्साह अति आवश्यक है

जीवन की सफलता और सार्थकता के लिए उत्साह अति आवश्यक है। कोई भी कार्य करने से पहले मन में उत्साह होना चाहिए, तो उसका परिणाम भी सुंदर ही आता है। उत्साह अपने जीवन को मधुरता से भर देता है। उत्साह प्रगति का मार्ग है। उत्साह एक संत भी है, उत्साह विश्वास भी है, उत्साह आत्मविश्वास है, और उत्साह जीवन का…

Read More
मुस्किल, आफत और जरूरत

मुस्किल, आफत और जरूरत के समय में सब मुंह फेर लेते हैं, पर तब कोई नि:स्वार्थ भाव से मदद करें उसे उपकार कहते हैं। उपकार ही मानव का धर्म है। जो बिना स्वार्थ से दूसरों की मदद करते हैं, वह उपकार है। जिसने-जिसने अपने उपर उपकार करा हो उसे भगवान समझना चाहिए। एक बार की घटना है। डॉक्टर जनक भाई…

Read More
बाहुबली

भरत चक्रवर्ती के छोटे भाई। भगवान ऋषभदेव ने उनको तक्षशिला का राज्य दिया था। उनका बाहुबल और साधारण था, इस कारण चक्रवर्ती की आज्ञा नहीं मानते थे। इससे भरत चक्रवर्ती ने उनपर चढ़ाई की और और दृष्टियुद्ध, वागयुद्ध और दंडयुद्ध किया, जिसमें वे हार गए। अंत में भरत ने मुष्ठीप्रहार किया, उससे बाहुबली कमर तक जमीन में घुस गए। उनका…

Read More
चंदनबाला

चंपापुरी में दधिवाहन नामक एक राजा था। उसकी रानी पद्मावती थी, जिसका दूसरा नाम धारिणी था। उसके वसुमति नाम की एक पुत्री थी। 1 दिन कौशांबी के राजा शतानीक ने उस पर चढ़ाई की जिससे डरकर दधिवाहन राजा भाग गया। सैनिकों ने उसके नगर को लूटा और धारणी तथा वसुमति को उठाकर ले गए। अपने शील की रक्षा के लिए…

Read More
अर्णिका-पुत्र आचार्य

उत्तर मथुरा में देवदत्त नामका एक वैश्य रहता था। वह धन कमाने के लिए दक्षिण मथुरा में आया और वहाँ अर्णिका के साथ उसके लग्न हुए। वहां से वापस उत्तर मथुरा में जाते समय अर्णिका ने मार्ग में पुत्रों को जन्म दिया और उसका नाम संधिरण रखा, परंतु जनता में वह अर्णिकापुत्र के नाम से प्रसिद्ध हुए। योग्य आयु में…

Read More

Warning: Use of undefined constant custom_pagination - assumed 'custom_pagination' (this will throw an Error in a future version of PHP) in /home/customer/www/voiceofjains.in/public_html/wp-content/themes/voiceofjains/ideas-to-change-your-life.php on line 108

Archivers